Sunday, 19 July 2015

#भाषा और शब्द

Think About India


भाषा शब्दों से पूर्ण होती है और हर शब्द की व्यंजना एक विशेष भाव की अभिव्यक्ति करती है. पर कुछ शब्द ज्यादा घिसे जाने से अपने मूल स्वरुप को छोड़ने लगते हैं और कुछ तो सम्पूर्ण रूप से परिवर्तित हो जाते हैं. मंत्री के पुरातन रूप और वर्तमान रूप में सम्पूर्ण परिवर्तन लक्षित है और सत्य, अहिंसा जैसे ज्यादा रगड़े जाने वाले शब्द अपना मूल स्वरुप खोते जा रहे हैं. यकीं नहीं आता तो आप किसी से कह के देख लें कि आप तो सत्यवादी हरिश्चंद्र हैं तो वह इसका विपरीतार्थक रूप ही लेगा. यदि आप यह शब्द किसी नेता के लिए कहें तो जनता इसे भद्दी गाली के रूप में लेगी.