Tuesday, 8 September 2015

सच छुप जा

Think About India



सच छुप जा 
नहीं तो एक और
दाभोलकर,पंसारे या कलबुर्गी 
होगा शहीद 
कुछ लोग 
आवाज उठाएंगे 
कुछ पुरष्कार लौटायेंगे 
कुछ मन बुद्बुदायेंगे 
पर परिवर्तन 
जम्बुरा-नाच दिखायेगा 
हत्या-रहष्य रहेगी सरकारों के लिए 
और कोई पेरूमल मुरुगन कलम छोड़ने 
का करेगा एलान
पर जागेगा क्या?
हमारा समाज
मिटेगा 
अंधविश्वास.... 
.....................