Friday, 4 September 2015

और प्रदेशों का क्या?

Think About India



सपने तो सपने हैं 
सपनों का क्या?
कब किया, कब भूल गए 
किये वादों का क्या?
चल रही सरकार पर 
सरकार का क्या?
चेहरा भी सिर्फ दो हैं 
तीसरे का भरोसा भी क्या?
दिल्ली तो जल रही, 
बिहार में निर्झरणी बह रही 
और प्रदेशों का क्या?