Monday, 7 December 2015

सच्चाई की एक चोट

Think About India
 
झूठे !
सच को छुपाते हैं
हजार बहानों से
झूठ-पे-झूठ लपेट
पर सच्चाई की एक चोट से
हलचल और भूकंप आ जाते हैं
झूठ के साम्राज्य में
सारे तंतु ढीले पड़ बिखर जाते हैं...